बच्चियों का आरोप- हमारे लड्डू गोपाल विसर्जित करवाए; गिरफ्तार हॉस्टल संचालक बोला- हम तो ईसाई धर्म ही मनवाते हैं

बाएं से अनिल मैथ्यू और बाल गृह में बना चर्च.

बाएं से अनिल मैथ्यू और बाल गृह में बना चर्च.

मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में एक बालिका गृह से 26 लड़कियों के गायब होने पर संचालक अनिल मैथ्यू को गिरफ्तार कर लिया गया है. आरोप है कि अवैध रूप से संचालित बालिका गृह धर्मांतरण का अड्डा बना हुआ था. राज्य बाल संरक्षण आयोग की सदस्य निवेदिता शर्मा ने एक बच्ची के हवाले से बताया कि वह घर से लड्डू गोपाल की प्रतिमा आई थी, लेकिन उसे विसर्जित करवा दिया गया.

दरसअल, भोपाल के नजदीक तारा सेवनियां गांव में आंचल बाल गृह के संचालक अलि मैथ्यू को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, पूछताछ में आरोपी मैथ्यू ने कुबूल किया कि बालगृह में वह बच्चों को ईसाई धर्म की प्रैक्टिस करवाते थे, जिन बच्चियों को यह स्वीकार नहीं था, वो सब अपने घर चली गईं.

चर्च में प्रार्थना के लिए करते थे मजबूर 
पुलिस की छानबीन में आंचल बालिका गृह से गायब बच्चियां अपने-अपने घर पर मिलीं. उन्होंने बताया कि बाल गृह में उन्हें जबरदस्ती ईसाई धर्म को मनाने के लिए बाध्य किया जाता था. यही नहीं, साफ सफाई के साथ ही दूसरे अन्य काम भी कराए जाते थे. इसी वजह से 26 बच्चियां अपने अपने घर भाग गईं.

बता दें कि पुलिस ने गुरुवार को जिला कार्यक्रम अधिकारी रामगोपाल यादव की शिकायत पर अवैध रूप से बाल गृह चलाने के आरोप में अनिल मैथ्यू नामक व्यक्ति के खिलाफ केस दर्ज किया था. पुलिस ने कहा कि शिकायत के अनुसार, राजधानी से लगभग 20 किलोमीटर दूर स्थित केंद्र की 68 लड़कियों में से 26 लापता हैं.

इसी के चलते मैथ्यू के खिलाफ किशोर न्याय (बच्चों की देखभाल एवं संरक्षण) अधिनियम 2015 की संबंधित धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. पुलिस ने कहा कि मैथ्यू अब तक उस केंद्र के लिए पंजीकरण प्रमाण पत्र भी हासिल नहीं किया यानी अवैध रूप से बाल गृह संचालित किया जा रहा था.

उधर, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि सूबे में अवैध बाल संरक्षण गृहों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाए. CM ने कहा, भोपाल के परवलिया थाना क्षेत्र में संचालित बालगृह से लापता बालिकाओं की तसदीक हो गई है. सभी बेटियां सुरक्षित हैं और इनकी पहचान भी कर ली गई है. एक भी दोषी और लापरवाही बरतने वालों को बख्शा नहीं जाए.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *