अमिताभ बच्चन की एंजियोप्लास्टी हुई:आज सुबह मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती हुए थे

बॉलीवुड सुपरस्टार अमिताभ बच्चन की एंजियोप्लास्टी हुई है। 81 साल के बिग बी को शुक्रवार सुबह 6 बजे मुंबई के कोकिलाबेन अस्पताल में भर्ती किया गया था। सोर्सेज का कहना है कि बिग बी को सुबह भारी सिक्योरिटी के बीच हॉस्पिटल लाया गया था।

इसी बीच बिग बी ने एक ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने लिखा- आपका हमेशा आभार। उनके इस ट्वीट से कयास लगाया जा रहा कि उन्होंने सर्जरी के बाद शुभचिंतकों का आभार जताया है ।

KBC 14 की शूटिंग के दौरान कट गई थी पैर की नस
2022 में कौन बनेगा करोड़पति 14 की शूटिंग के दौरान अमिताभ बच्चन के पैर की नस एक मेटल के टुकड़े से कट गई थी। सेट पर उनके काफ मसल से खूब खून बहा था, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया था।

दिवाली 2022 से पहले भी घायल हुए थे अमिताभ
अमिताभ ने दिवाली से ठीक पहले अपने पैर की नस कटने की जानकारी दी थी। उन्होंने खुद एक ब्लॉग के जरिए बताया था कि पैर की नस कटने पर खूब खून बहा। उन्हें अस्पताल का चक्कर भी काटना पड़ा, जहां डॉक्टर्स ने उनके पैर पर टांके लगाए थे। अमिताभ बच्चन ने अपने पर्सनल ब्लॉग से इस घटना की जानकारी दी थी।

दो बार कोविड पॉजिटिव हुए थे
अमिताभ ने 2020 में ट्वीट करके जानकारी दी थी कि वो कोविड संक्रमित हो गए हैं। उनके बेटे अभिषेक भी पॉजिटिव थे। इलाज के लिए दो महीनों तक बिग बी हॉस्पिटलाइज थे। इसके बाद 2022 में भी अमिताभ कोविड से संक्रमित हुए थे ।

ठग्स ऑफ हिंदोस्तान के सेट पर लगी थी अमिताभ को चोट
2018 की फिल्म ठग्स ऑफ हिंदोस्तान में एक एक्शन सीन करते समय उन्हें कंधे पर चोट आई थी। हालांकि यह चोट गंभीर नहीं थी। उन्हें बॉडी डबल का इस्तेमाल करने की सलाह दी गई लेकिन उन्होंने यह सीन खुद करना तय किया ।

लापरवाही में बिग बी को चढ़ा था हेपेटाइटिस बी से संक्रमित व्यक्ति का खून
2000 में अमिताभ बच्चन को पता चला कि उन्हें हेपेटाइटिस बी है। दरअसल ये बीमारी एक लापरवाही का नतीजा थी। जब कुली सेट पर हुए हादसे के बाद बिग बी को खून की जरूरत पड़ी तो ब्लड डोनर की भीड़ लग गई थी। 200 डोनर के जरिए उन्हें 60 बोतल खून चढ़ाया गया था।

जल्दबाजी में बिग बी को हेपेटाइटिस बी से संक्रमित व्यक्ति का खून चढ़ा दिया गया, जिससे वे खुद भी संक्रमित हो गए थे। यह बात खुद अमिताभ बच्चन ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से हेपेटाइटिस बी के कैंपेन का ब्रांड एंबेसडर बनाए जाने पर बताई थी।

75 प्रतिशत लिवर काम करना बंद कर चुका है
2000 में अमिताभ बच्चन के पेट में जोरदार दर्द उठा। इलाज करवाने जब बिग बी अस्पताल पहुंचे तो उन्हें पता चला कि उनकी आंत में दिक्कत है, जिसके लिए उन्होंने डाइवर्टिक्युलाइटिस ऑफ स्मॉल इंटेस्टाइन सर्जरी करवाई। इलाज के दौरान ही बिग बी को पता चला कि उन्हें लिवर सिरोसिस है। यह हेपेटाइटिस बी के कारण हुआ था। 2012 में अमिताभ बच्चन के 75 प्रतिशत संक्रमित लिवर को सर्जरी से काटकर अलग कर दिया गया है।

पहले ही अस्थमा, लिवर प्रॉब्लम और निमोनिया से जूझ रहे थे बिग बी
हादसे से पहले ही अमिताभ बच्चन को लिवर की समस्या थी और साथ ही वो अस्थमैटिक भी थे। ऑपरेशन के अगले ही दिन उन्हें निमोनिया हुआ जिससे हालत और बिगड़ गई। बैंगलोर में इलाज के बाद उन्हें एयरबस से मुंबई लाया गया था। क्रेन से उन्हें ब्रीच कैंडी हॉस्पिटल में स्ट्रेचर पर शिफ्ट किया गया था।

8 अगस्त को उनका दोबारा ऑपरेशन हुआ। अस्पताल के बाहर उनके चाहने वालों की चौबीसो घंटे भीड़ रहती थी। पूरे देश में कहीं पूजा करवाई जा रही थी तो कहीं यज्ञ। जया बच्चन खुद भी अमिताभ की सलामती के लिए सिद्धि विनायक गई थीं, लेकिन जब वो पहुंचीं तो देखा कि उनसे पहले ही कई लोग बिग बी के लिए वहां पूजा कर रहे थे। लोगों की दुआएं रंग लाईं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *