MP में अगले 3 दिन बारिश-ओले के आसार:ग्वालियर, चंबल, रीवा-सागर संभाग में ज्यादा असर; भोपाल, इंदौर-जबलपुर में बादल रहेंगे

वेस्टर्न डिस्टरबेंस की वजह से मध्यप्रदेश में अगले 3 दिन मौसम बदला रहेगा। तेज आंधी और बारिश होने के साथ ओले भी गिर सकते हैं। ग्वालियर, चंबल, रीवा और सागर संभाग में सबसे ज्यादा असर रहेगा, जबकि भोपाल, इंदौर और जबलपुर में बादल रहेंगे।

IMD, भोपाल के सीनियर वैज्ञानिक डॉ. वेदप्रकाश सिंह के मुताबिक, उत्तर भारत में जेट स्ट्रीम 140 से 150 किमी के हिसाब से चल रही है। शुक्रवार को इसकी वजह से कई जिलों में कोहरा रहा। शनिवार से पश्चिम-उत्तर भारत में वेस्टर्न डिस्टरबेंस का असर पड़ेगा। उत्तरी मध्यप्रदेश में भी गरज-चमक के साथ बारिश और ओले भी गिर सकते हैं।

शुक्रवार रात कई शहरों में न्यूनतम तापमान में कमी आई है। दतिया की रात सबसे सर्द रही। यहां पारा 5.9 डिग्री पहुंच गया। पचमढ़ी में यह 7.4, रीवा में 8.4, मंडला में 9.6, खजुराहो में 9.8 डिग्री दर्ज हुआ।

आगे ऐसा रहेगा मौसम

  • 3 फरवरी को ग्वालियर, शिवपुरी और दतिया में गरज-चमक के साथ हल्की बूंदाबांदी हो सकती है।
  • 4 फरवरी की सुबह भिंड-मुरैना में हल्की ओलावृष्टि हो सकती है। इस दिन चंबल संभाग के श्योपुर, मुरैना और भिंड, ग्वालियर संभाग के दतिया-ग्वालियर में ओलावृष्टि होगी। वहीं, 40 से 50 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से तेज हवा भी चल सकती है। नीमच, शिवपुरी, टीकमगढ़, निवाड़ी और छतरपुर में भी बूंदाबांदी हो सकती है।
  • 5 फरवरी को ग्वालियर, चंबल, सागर और रीवा संभाग समेत मंडला, सिवनी, बालाघाट और छिंदवाड़ा में हल्की बूंदाबांदी हो सकती है।

6 फरवरी से बढ़ेगी ठंड
बादल की वजह से 3 दिन तक दिन-रात के टेम्प्रेचर में बढ़ोतरी देखने को मिलेगी, लेकिन वेस्टर्न डिस्टरबेंस के गुजरने के बाद रात के टेम्प्रेचर में गिरावट होगी। ठंड का हल्का दौर फिर आएगा।

मध्यप्रदेश में फरवरी महीने में बादल, ठंड और गर्मी का ट्रेंड रहता है। इस बार भी ऐसा ही मौसम रहने का अनुमान है। मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि 3 फरवरी से उत्तर भारत में वेस्टर्न डिस्टरबेंस एक्टिव हो रहा है। यह स्ट्रॉन्ग बताया जा रहा है। बादल ज्यादा नीचे रहे, तो बूंदाबांदी भी हो सकती है।

सिस्टम गुजरने के बाद 6 फरवरी से तेज ठंड का हल्का दौर फिर से आ सकता है। इधर, कड़ाके की ठंड से राहत मिलने के बाद भोपाल में स्कूलों का समय फिर से बदल दिया गया है। नए सिस्टम से पहले एक और वेस्टर्न डिस्टरबेंस की एक्टिविटी है। मध्यप्रदेश में भी इसका असर देखने को मिल रहा है। बुधवार को भोपाल समेत प्रदेश के कई शहरों में बादल छाए रहे। इस कारण दिन के तापमान में बढ़ोतरी हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *