30 साल बाद बुध और शनि की युति, इन राशियों पर सीधा प्रभाव

जबलपुर. वैदिक ज्योतिष के अनुसार ग्रह एक निश्चित अवधि पर अन्य ग्रहों के साथ संयोग बनाते हैं। इसका प्रभाव मानव जीवन और पृथ्वी पर दिखाई देता है। अभी शनिदेव कुम्भ राशि में संचरण कर रहे हैं। बुध ग्रह फरवरी में कुम्भ राशि में प्रवेश करेंगे। इससे 30 साल बाद कुम्भ राशि में शनिदेव और व्यापार के दाता बुध ग्रह की युति बनेगी। ज्योतिषाचार्यों का मानना है कि यह संयोग कृषि व व्यापार के लिए शुभ होगा। इस युति का प्रभाव सभी राशियों के जातकों पर पड़ेगा। लेकिन कुछ राशि के जातकों के लिए इस समय आकस्मिक धन लाभ और भाग्योदय के योग बन रहे हैं।

कुम्भ राशि में जाएंगे बुध

पंचांग के अनुसार बुध ग्रह एक फरवरी को दोपहर 2.29 बजे मकर राशि में गोचर करेंगे। 20 फरवरी को सुबह 6.07 बजे तक मकर राशि में रहने के बाद कुम्भ राशि में प्रवेश करेंगे। वर्तमान में कुम्भ राशि में शनिदेव का वास है। इसके चलते दोनों मित्र ग्रहों की युति बनेगी। यह कृषि, व्यापार के लिए शुभफलदायी साबित होगी।

मकर राशि के लिए बुध और शनि की युति लाभदायक सिद्ध हो सकती है। यह युति मकर राशि के धन भाव पर बनने जा रही है, इसलिए आकस्मिक धन की प्राप्ति हो सकती है।

वृषभ बुध और शनि का संयोग वृषभ राशि के जातकों के लिए अनुकूल साबित हो सकता है। यह संयोग वृषभ राशि की गोचर कुंडली के कर्म भाव पर बन रहा है।

तुला राशि के जातकों को यह युति विशेष लाभदायक सिद्ध होगी। भूमि और संपत्ति से जुड़े विवाद समाप्त होंगे। अटके कार्य पूरे होंगे। छात्रों के लिए यह समय शुभ रहेगा।

धनु राशि के लिए बुध व शनि का योग आय व धन में वृद्धिदायक होगा। अचानक धन की प्राप्ति हो सकती है। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिल सकती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *