क्लोरफेनिरामाइन मैलेट और फिनाइलफ्राइन वाले कफ सिरप खतरनाक:DCGI ने कहा- 4 साल से छोटे बच्चों को न दें; बच्चों की मौत के बाद फैसला

ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) ने चार साल से कम उम्र के बच्चों को क्लोरफेनिरामाइन मैलेट और फिनाइलफ्राइन के कॉम्बिनेशन वाला कफ सिरप दिए जाने पर बैन लगा दिया है। इन ड्रग्स के कॉम्बिनेशन वाला सिरप आमतौर पर सर्दी और खांसी के लिए उपयोग में लिया जाता है।

साथ ही DCGI ने दवाओं को लेबल किए जाने का आदेश दिया है। दुनियाभर में भारत में बने कफ सिरप के इस्तेमाल के बाद 141 बच्चों की मौत होने की बात सामने आने के बाद DCGI ने यह फैसला लिया है।

DCGI ने 18 दिसंबर को फिक्स्ड ड्रग्स कॉम्बिनेशन (FDC) को लेकर सभी राज्यों को एक लेटर लिखा। इसमें यह भी कहा गया है कि क्लोरफेनिरामाइन मैलेट और फिनाइलफ्राइन के कॉम्बिनेशन से बने कफ सिरप पर यह भी लिखें कि इन दोनों दवाओं की उसमें कितनी-कितनी मात्रा है। अभी कई सिरप पर यह नहीं लिखा होता है।

इन देशों ने भारत में बनी दवाओं से बच्चों की मौत के दावे किए थे
साल 2022 में मेडन फार्मा के 4 सिरप से कथित रूप से करीब 70 बच्चों की मौत की बात सामने आई थी। इसमें 5 साल से भी कम उम्र के बच्चों की मौत हुई थी। सारी मौतों की वजह किडनी इंजरी बताई गई थी। गांबिया सरकार ने जांच में पाया था कि भारतीय कंपनी की बनी दवाई से ये मौतें हुईं। मौतों में लक्षण एक जैसे थे।

वहीं, उज्बेकिस्तान सरकार ने आरोप लगाया था कि भारत में बने कफ सिरप की वजह से उनके देश में 18 बच्चों की मौत हुई। उज्बेक हेल्थ मिनिस्ट्री ने नोएडा के मेरियन बायोटेक में बना कफ सिरप DOK-1 MAX पीने से बच्चों की जान जाने का दावा किया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *