सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) स्कीम के तहत सरकार बेच रही हैं सस्ता सोना, 18 से 22 दिसंबर तक खरीदने का मौका, जानिए सबकुछ

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने वित्तीय वर्ष 2023-2024 के लिए सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) योजना सीरीज III की घोषणा की, जो 18 दिसंबर को खुलने वाली है और 22 दिसंबर को बंद हो जाएगी। RBI के मुताबिक, सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करने के लिए अप्लाई कर सकते हैं। यह इश्यू 18 दिसंबर से पांच दिनों के लिए जारी रहेगा। इसके तहत सरकार आपको सस्ते रेट पर सोने की खरीद का सुनहरा मौका दे रही है। आरबीआई की ओर से इस बार 999 शुद्धता वाले सोने के बॉन्ड का मूल्य 6,199 रुपये प्रति ग्राम रखा गया है। आइये मामले से जुड़ी पूरी जानकारी को समझते हैं।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (SGB) क्या हैं?

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड योजना के तहत सरकार एक तरह का पेपर गोल्ड या डिजिटल गोल्ड बेचती है। इसकी खरीदारी के बाद निवेशकों को एक सर्टिफिकेट मिलता है, जिसमें लिखा रहता है कि आप किस रेट पर सोने की कितनी मात्रा खरीद रहे हैं। डिजिटल गोल्ड को खरीदने पर रिटर्न मिलने की संभावना अधिक रहती है। भारत सरकार की ओर से भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा जारी किए गए, ये बांड निवेशकों को यह सुनिश्चित करके सुरक्षा प्रदान करते हैं कि उन्हें सोने का मौजूदा बाजार मूल्य प्राप्त हो। यह सुविधा आरंभ में निवेश की गई सोने की मात्रा के मूल्य की गारंटी देती है, जिससे एसजीबी भौतिक सोना रखने की तुलना में अधिक अनुकूल विकल्प बन जाता है।

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड में कौन कर सकता है निवेश

विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम, 1999 के तहत भारत में निवासियों के रूप में वर्गीकृत व्यक्ति, जैसे कि व्यक्ति, हिंदू अविभाजित परिवार (एचयूएफ), ट्रस्ट, विश्वविद्यालय और धर्मार्थ संस्थान, सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (एसजीबी) में निवेश करने के लिए पात्र हैं।

image 1728

सालाना कितना ब्याज मिलता है

सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड (एसजीबी) प्रारंभिक निवेश राशि पर प्रति वर्ष 2.50% की निश्चित ब्याज दर प्रदान करते हैं। ब्याज को निवेशक के बैंक खाते में अर्धवार्षिक रूप से जमा किया जाता है, और अंतिम ब्याज भुगतान निवेश की गई मूल राशि के साथ परिपक्वता पर किया जाता है। एसजीबी में न्यूनतम निवेश 1 ग्राम है, और ये बांड एक ग्राम या उसके गुणकों में जारी किए जाते हैं। सॉवरेन गोल्ड बॉन्ड स्कीम में कोई व्यक्ति, हिंदू अविभाजित परिवार (HUF) 4 किलोग्राम तक अधिकतम निवेश कर सकता है। जबकि ट्रस्ट और दूसरी ही ऐसी संस्थाओं के लिए अधिकतम निवेश 20 किलोग्राम है।

डिजिटल पेमेंट करने पर फायदा

अगर आप गोल्ड बॉन्ड में निवेश के लिए ऑनलाइन पेमेंट करते हैं तो आपको फायदा मिलने वाला है। दरअसल, केंद्र सरकार ने ऑनलाइन आवेदन करने और डिजिटल पेमेंट करने वाले निवेशकों को अंकित मूल्य से 50 रुपये प्रति ग्राम डिस्काउंट देने का फैसला किया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *