भोपाल में एयरपोर्ट से बंसल हॉस्पिटल तक बनेगा ग्रीन कॉरिडोर:डॉक्टर्स की टीम जबलपुर से ब्रेन डेड मरीज का लिवर लेकर आएगी भोपाल

जबलपुर के मेट्रो हॉस्पिटल से डुमना एयरपोर्ट तक और भोपाल एयरपोर्ट से बंसल हॉस्पिटल तक गुरुवार को ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है। जबलपुर के मेट्रो हॉस्पिटल में भर्ती एक ब्रेन डेड मरीज का लिवर भोपाल में भर्ती मरीज को ट्रांसप्लांट किया जाएगा। मरीज का लिवर लेने के लिए भोपाल से डॉक्टर्स की टीम जबलपुर पहुंच गई है।

बंसल हॉस्पिटल के मैनेजर लोकेश झा ने बताया कि मेट्रो हॉस्पिटल में ब्रेन डेड घोषित किए गए एक 64 वर्षीय मरीज के परिजन ने लिवर डोनेट किया है। उसके लिवर को लेने भोपाल से हॉस्पिटल के डॉक्टर्स की टीम जबलपुर गई है। उन्होंने बताया कि डॉक्टर्स को जबलपुर से आर्गन लाने के लिए सीएम शिवराज सिंह चौहान ने हेलिकॉप्टर मुहैया कराया है।

भोपाल में बंसल हॉस्पिटल के डॉ. गुरुसागर सिंह सहोटा, लिवर ट्रांसप्लांट सर्जन, पूरे ऑपरेशन को लीड कर रहे हैं। जबलपुर में एक से डेढ़ घंटे में लिवर को सर्जरी कर निकाला जाएगा। इसके बाद भोपाल में लिवर ट्रांसप्लांट सर्जरी होगी। यह सर्जरी 5 से 10 घंटे तक चल सकती है।

डॉ. गुरुसागर सिंह सहोटा, लिवर ट्रांसप्लांट सर्जन, पूरे ऑपरेशन को लीड कर रहे हैं।
डॉ. गुरुसागर सिंह सहोटा, लिवर ट्रांसप्लांट सर्जन, पूरे ऑपरेशन को लीड कर रहे हैं।

परिजनों ने जताई थी आर्गन डोनेट करने की इच्छा
मेट्रो हॉस्पिटल जबलपुर के डॉ. सौरभ बड़ेरिया ने बताया कि 19 सितंबर को एक 64 वर्षीय मरीज भर्ती हुआ था। उसे ब्रेन ट्यूमर था। अस्पताल में दिए गए इलाज के बाद भी उसकी सेहत में सुधार नहीं हुआ। 20 सितंबर की सुबह मरीज ब्रेन डेड हो गया था। मरीज के परिजनों ने ब्रेन डेड पेशेंट के आर्गन डोनेट करने की इच्छा जताई थी। इस पर डॉक्टर्स की टीम ने तय प्रोटोकॉल के तहत नेशनल आर्गन एंड टिशु ट्रांसप्लांट आर्गेनाइजेशन (NOTTO) को आर्गन डोनेशन की सूचना दी गई थी।

NOTTO से अप्रूवल मिलने के बाद अब मरीज का लिवर, दूसरे मरीज को ट्रांसप्लांट करने के लिए शाम 5 बजे भोपाल भेजा जाएगा। बंसल अस्पताल से लिवर ट्रांसप्लांट सर्जन डॉक्टर गुरुसागर सिंह सहोटा ने बताया कि हम सभी अभी एक लिवर ट्रांसप्लांट के लिए जबलपुर जा रहे हैं। एक ब्रेन डेड पेशेंट हैं, उन्होंने अंगदान करने का निर्णय लिया है उसके लिए हमारी टीम जबलपुर जा रही है। इसके लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हमारी मदद की है। वह अपना हेलिकॉप्टर ऑर्गन लेने के लिए भेज रहे हैं। आर्गन आने के बाद सर्जरी की जाएगी।

राजीव सराफ को इसी साल 27 मार्च में ब्रेन ट्यूमर डिटेक्ट हुआ था।
राजीव सराफ को इसी साल 27 मार्च में ब्रेन ट्यूमर डिटेक्ट हुआ था।

मार्च में ब्रेन ट्यूमर डिटेक्ट हुआ था

जबलपुर के रहने वाले पीयूष सराफ ने बताया कि उनके मामा जी राजीव सराफ को इसी साल 27 मार्च में ब्रेन ट्यूमर डिटेक्ट हुआ था। नागपुर के हॉस्पिटल में 29 मार्च को सर्जरी हुई थी। इसके बाद वह रिकवर हो गए थे। 19 सितंबर को राजीव सराफ को ब्रेन स्ट्रोक हुआ। इसके बाद इलाज के लिए मेट्रो हॉस्पिटल में भर्ती कराया था। लेकिन, वह रिकवर नहीं हुए। बल्कि ब्रेन डेड हो गए।

इसके चलते परिजनों ने मामा जी (राजीव सराफ) के आर्गन डोनेट करने का फैसला किया। ताकि मामा जी के आर्गन से दूसरे व्यक्ति को जिंदगी मिल सके। पीयूष, राजीव सराफ मूल रूप से बैतूल के रहने वाले थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *