Jabalpur news: श्री राम वनवास के दौरान जहां-जहां गये उनमें रामघाट पिपरिया भी शामिल

जबलपुर। भारत सरकार के श्रीराम संस्कृतिक शोध संस्थान न्यास की  भगवान श्री राम गमन स्थल सूची में क्रमांक 57 में भी रामघाट पिपरिया का जिला जबलपुर का उल्लेख है। मंगलवार 16 जनवरी को मुख्यमंत्री डॉ. मोहन यादव की अध्यक्षता में ग्रामोद्योग विश्वविद्यालय चित्रकूट में श्री रामचन्द्र पथ गमन न्यास की होने वाली पहली बैठक के मद्देनजर कलेक्टर श्री दीपक सक्सेना ने  सोमवार को रामघाट पिपरिया पहुंचकर ग्रामवासियों से चर्चा की।

Ramghat Pipariya

इस अवसर पर उन्होंने मां नर्मदा के घाट सहित गांव के समग्र विकास की कार्ययोजना बनाने के निर्देश अधिकारियों को दिये। उन्होंने कार्ययोजना बनाने में ग्राम वासियों से भी राय लेने पर जोर दिया। कलेक्टर के साथ जिला पंचायत की सीईओ श्रीमती जयति सिंह भी मौजूद थी। रामघाट पिपरिया पहुंचे कलेक्टर श्री सक्सेना ने यहां लगभग 20 वर्ष पूर्व स्थापित किये गये राम मंदिर में भगवान श्री राम, माता सीता एवं लक्ष्मण जी के दर्शन किये।

ग्रामीणों से चर्चा करते हुये उन्होंने बताया कि जबलपुर वासियों का यह सौभाग्य है कि भगवान श्री राम वनवास के दौरान जहां-जहां गये उनमें रामघाट पिपरिया भी शामिल है। उन्होंने कहा कि इस गांव में पौराणिक महत्व को देखते हुये इसके समग्र विकास की कार्ययोजना तैयार की जायेगी। कलेक्टर ने इस अवसर पर ग्रामवासियों से चर्चा में बताया कि रामघाट पिपरिया को राष्ट्रीय राजमार्ग से जोड़ने नई सड़क के निर्माण के लिये सर्वे किया जायेगा तथा गांव वासियों के विकास की हर जरूरतों को कार्ययोजना में शामिल किया जायेगा। ग्राम रामघाट पिपरिया के राम मंदिर परिसर में भगवान श्रीराम की चरण पादुका विराजमान है। यहां शिवलिंग भी स्थापित किया गया है तथा हनुमान जी का मंदिर भी इस परिसर में है।

रामघाट पिपरिया के नर्मदा नदी के दूसरे तट पर राम कुण्ड भी स्थित है। प्रभात फेरी और कलश यात्रा निकाली गई राम वनगमन पथ की सूची में शामिल रामघाट पिपरिया में मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद द्वारा कलश यात्रा और प्रभात फेरी निकाली गई तथा मंदिर परिसर में जन सहभागिता से स्वच्छता अभियान चलाया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *