Janmashtmi 2023 : अगर शादी में हो रही है देरी तो जन्माष्टमी पर तुलसी का यह उपाय करते ही होगी जट मंगनी-पट ब्याह Avatar photo

तुलसी का महत्व हिंदू धर्म में विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, और इसे भगवान विष्णु की प्रतिमा माना जाता है। तुलसी के पौधे के पूजन का महत्व तुलसी विवाह के कथा से जुड़ता है, जिसमें भगवान श्रीकृष्ण के रूप में तुलसी का पति बनने का किस्सा है। इसलिए ऐसी मान्यता है कि जिस घर में तुलसी का पौधा लगा होता है, वहां श्री कृष्ण की कृपा हमेशा बनी रहती है. समग्र देश में जन्माष्टमी का त्यौहार काफी हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है.

हर वर्ष भाद्रपद माह के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को जन्माष्टमी का त्यौहार आनंद से मनाया जाता है. इस वर्ष 6 और 7 सितंबर दोनों दिन ये त्योहार मनाया जाएगा. कहा जाता है कि जन्माष्टमी के दिन किए उपाय बेहद अधिक फलदायी होते हैं, इन्ह्ने करने से भगवान श्री कृष्ण प्रसन्न होते है. जानें तुलसी से जुड़े कुछ उपाय जिन्हें जन्माष्टमी के दिन आप अपना सकते है :

मन्त्रों का जाप करें :

धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, तुलसी के पौधे के सामने भगवान श्रीकृष्ण के नामों का जाप करना और मंत्रों का उच्चारण करने से व्यक्ति भगवान के प्रति भक्ति और समर्पण का अभिवादन करता है।मंत्रों का उच्चारण और भगवान के नामों का जाप आध्यात्मिक अनुष्ठान के हिस्से के रूप में किया जा सकता है और इससे व्यक्ति के चित्त में शांति और सकारात्मकता की भावना आती है।

तुलसी का लगाये भोग :

जन्माष्टमी को यदि भक्त श्री कृष्ण को भोग लगते वक्त तुलसी का पत्ता रखते है तो वह प्रसाद पूर्ण होता है. इस प्रक्रिया से करने से कृष्ण और मां लक्ष्मी दोनों की कृपा बरसती है और जीवन में तरक्की के अवसर खुलते है।

वैवाहिक जीवन की परेशानियाँ होगी दूर :

यदि आपके वैवाहिक जीवन में आए दिन काफी परेशानियाँ चल रही है तो जन्माष्टमी के दिन तुलसी का पौधा घर में लगाये इससे वैवाहिक जीवन सुख समृद्धि से भरपूर रहता है. यही नहीं जिनकी शादी में देर हो रही है तो वो भी अपने घर तुलसी का पौधा अवश्य लगायें।

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है.Timesbull.com इसकी पुष्टि नहीं करता है। किसी भी मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *