कोटा में NEET की तैयारी कर रही छात्रा का अपहरण:हाथ-पैर और मुंह बंधा फोटो पिता को भेजी, 30 लाख फिरौती मांगी

कोटा से NEET की तैयारी कर रही स्टूडेंट का अपहरण कर लिया गया। बदमाशों ने लड़की के पिता के वॉट्सऐप नंबर पर इसकी जानकारी दी। साथ ही, लड़की की फोटो भी भेजी। उसमें लड़की के हाथ-पैर और मुंह बंधे हुए हैं। छात्रा को छोड़ने के एवज में 30 लाख रुपए की फिरौती मांगी गई है। लड़की मध्य प्रदेश के शिवपुरी की रहने वाली है।

पुलिस मंगलवार सुबह करीब सवा दस बजे पिता को कोचिंग इंस्टीट्यूट लेकर गई है। कोचिंग ने छात्रा के रजिस्ट्रेशन से इंकार किया है। अब पुलिस पिता और इंस्टीट्यूट वालों से आमने-सामने बात करेगी।

बेटी के चेहरे पर खून नजर आया
शिवपुरी (MP) के बैराड़ निवासी रघुवीर धाकड़ ने कोटा के विज्ञाननगर थाने में रिपोर्ट दी है। उनका शिवपुरी इलाके में ही प्राइवेट स्कूल है। रिपोर्ट में रघुवीर ने पुलिस को बताया- मेरी बेटी काव्या धाकड़ (20) का अपहरण कर लिया गया है। सोमवार दोपहर 3 बजे मेरे मोबाइल पर एक नंबर से वॉट्सऐप पर बेटी की किडनैपिंग का मैसेज आया था। बेटी के हाथ-पैर और मुंह बंधा फोटो भी बदमाशों ने भेजी थी। कुछ फोटो में बेटी के चेहरे पर खून भी नजर आ रहा है।

फोटो भेजने वाले ने मैसेज में लिखा था- रघुवीर की बेटी को किडनैप कर लिया गया है। उसे जिंदा छोड़ने के एवज में 30 लख रुपए की फिरौती मांगी गई है। मैसेज भेजने वाले ने बैंक खाते की डिटेल भी भेजी है। सोमवार शाम तक रुपए जमा करने को कहा था। मैंने इतने रुपए नहीं होने और बंदोबस्त करने के लिए समय मांगा। इसके बाद मैसेज भेजने वाले ने बेटी को जान से मारने की धमकी दी। मैंने फौरन कोटा पुलिस को मामले की जानकारी दी। पुलिस को फोटो और मैसेज भेजकर मैं खुद शिवपुरी से कोटा के लिए रवाना हो गया। सोमवार रात को मैं कोटा पहुंच गया था।

पिछले साल सितंबर में आई थी कोटा
रघुवीर ने रिपोर्ट में बताया- बेटी को सितंबर 2023 में नीट की तैयारी के लिए कोटा छोड़कर गए थे। विज्ञान नगर इलाके में स्थित एक कोचिंग संस्थान में उसका एडमिशन करवाया था। इसी इलाके में उसे रूम भी दिलवाया था। आखिरी बार बेटी दीपावली पर घर आई थी। उससे रोज फोन पर बात होती थी। रविवार रात को भी बेटी की उसकी मां से बात हुई थी। तब उसने एग्जाम देकर आने की बात कही थी।

कोचिंग संस्थान ने कहा- नहीं था रजिस्ट्रेशन
पीडब्ल्यू कोचिंग के कोटा हेड दिनेश जैन ने बताया- लड़की के नाम (काव्या धाकड़) से कोचिंग में कोई रजिस्ट्रेशन नहीं है। उधर, लड़की के पिता रघुवीर ने कहा कि काव्या का एडमिशन उन्होंने कोचिंग में कराया था। अब कोचिंग संस्थान इससे इनकार कर रहा है। काव्या टेस्ट देने गई थी। टेस्ट के लिए कोचिंग से मैसेज आया था। इसको लेकर कोचिंग प्रबंधन ने कहा कि कोचिंग से मैसेज नहीं भेजा गया है।

कोचिंग संस्थान प्राइवेट नंबरों से मैसेज नहीं भेजता है। ऐसे में पूरी घटना को लेकर कई सवाल खड़े हो रहे हैं। दूसरी ओर, हॉस्टल संचालक पारस कुमार ने भी काव्या के अपने यहां रुकने की बात से इनकार किया है। उन्होंने साफ कहा कि काव्या नाम की लड़की कभी हॉस्टल आई ही नहीं है।

मैसेज भेजने वाले तक पहुंची पुलिस
मामले में पुलिस के हाथ कई अहम सुराग लगे हैं। कोटा शहर एसपी अमृता दुहन ने बताया कि पुलिस टीमों का गठन कर मामले की जांच में लगा दिया गया। सोमवार देर रात घरवाले कोटा पहुंचे। सूत्रों के अनुसार जयपुर के सिंधी कैंप से एक युवक को राउंड अप भी किया गया है। उससे अभी पुलिस जानकारी जुटा रही है।

इंदौर में मिल रही थी धमकी, कोटा किया था शिफ्ट
छात्रा के पिता रघुवीर धाकड़ ने बताया- दो साल पहले बेटी इंदौर में रहकर नीट की तैयारी कर रही थी। यहां जरियाखेड़ा गांव के रहने वाला रिंकू धाकड़ ने बेटी को परेशान किया था। इसकी शिकायत इंदौर पुलिस में दर्ज कराई थी। इसके बाद बेटी के नंबर पर अनुराग सोनी और हर्षित नाम के लड़कों ने धमकी दी थी। इसके बाद बेटी को इंदौर से वापस शिवपुरी बुला लिया था। बेटी 6 महीने तक शिवपुरी रही थी। इसके बाद सितंबर 2023 में नीट की तैयारी के लिए कोटा भेज दिया था।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *