म.प्र. छिंदवाड़ा – कांग्रेस के निशान की थैली मिली बूथ पर छिंदवाड़ा में , पूरी खबर पढ़े……

लोकसभा चुनाव के पहले चरण में मध्यप्रदेश की 6 सीटों छिंदवाड़ा, जबलपुर, मंडला, बालाघाट, शहडोल और सीधी पर वोटिंग हो रही है। इन 6 सीटों पर 1.13 करोड़ से ज्यादा मतदाता 88 प्रत्याशियों की किस्मत का फैसला करेंगे। जबलपुर सीट पर सबसे ज्यादा 19 प्रत्याशी और सबसे कम 10 प्रत्याशी मंडला सीट पर हैं। सीधी के 2 बूथों पर लोगों ने मतदान का बहिष्कार कर दिया। इधर, पूर्व सीएम कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा के एक बूथ पर कांग्रेस के चुनाव चिन्ह वाली थैली मिली, जिसे पुलिसकर्मी ने उठाकर बाहर रख दिया।

मतदान सुबह 7 बजे शुरू हुआ जो शाम 6 बजे तक चलेगा। नक्सल प्रभावित बालाघाट के 3 विधानसभा क्षेत्र परसवाड़ा, लांजी और बैहर में सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे तक वोटिंग होगी। नक्सल गतिविधियों के मद्देनजर जबलपुर में एयर एंबुलेंस और बालाघाट में हेलिकॉप्टर भी रखा गया है।

हाई प्रोफाइल सीट के रूप में छिंदवाड़ा और मंडला सीट पर नजर रहेगी। छिंदवाड़ा में कांग्रेस के नकुलनाथ और भाजपा के विवेक बंटी साहू के बीच मुख्य मुकाबला है। वहीं, मंडला में बीजेपी प्रत्याशी के रूप में केंद्रीय मंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते मैदान में हैं। उनका मुकाबला कांग्रेस प्रत्याशी ओमकार सिंह मरकाम से होगा।

राज्यसभा सांसद विवेक तन्खा ने जबलपुर में वोट डाला। उन्होंने भारतीय जनता पार्टी के 400 पार नारे को लेकर कहा, मुझे नहीं लगता है कि इस बार भाजपा 200 भी हो पाए। नॉर्थ में भाजपा को कुछ नहीं मिल रहा है। साउथ में भी उनकी हालत ठीक नहीं है, इसलिए मैं समझता हूं कि भाजपा का जो 400 पार का नारा है वह पूरी तरह से फेल होगा।

शहडोल जिले में सीनियर सिटीजन में भी वोट डालने का उत्साह दिखा। मनकलाल, अपनी पत्नी सुंदरी बाई और रामखेलावन पटेल अपनी पत्नी रामवती पटेल के साथ वोट डालने पहुंचे।

सीधी के आदिवासी गांव मेडरा में चुनाव का बहिष्कार

सीधी जिले से 70 किमी दूर आदिवासी बहुल गांव मेडरा में सुबह करीब पौने नौ बजे तक वोट नहीं पड़े। आदवासियों और सरपंच ने मोबाइल नेटवर्क नहीं मिलने की समस्या को लेकर चुनाव का बहिष्कार कर दिया। बताया जाता है कि सरपंच के साथ ग्रामीणों ने कई बार जिला पंचायत प्रशासन और कलेक्टर को आवेदन भी दिया, लेकिन सुनवाई नहीं हुई थी। ग्रामीणों का कहना है कि हमें नेटवर्क की समस्या से निजात नहीं देंगे तो हम वोट नहीं डालेंगे। हम ऐसे लोगों को क्यों चुनें जो हमारी समस्या का समाधान कर ही नहीं पाते हैं। सीधी कलेक्टर स्वरोचिष सोमवंशी ने पुष्टि करते हुए कहा है कि ग्राम मेडरा में कुछ अपरिहार्य कारणों की वजह से वोटिंग रोकी गई है। प्रशासन की टीम वहां पहुंच गई है और लोगों से बातचीत कर रही है। जल्दी ही वोटिंग शुरू कर दी जाएगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *