मध्य प्रदेश चुनाव: शिवराज सिंह की सीट का कब होगा ऐलान? जानें नाम पर सस्पेंस का सच

मध्य प्रदेश में इसी साल विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं. इसको लेकर सभी राजनतीकि पार्टियां जोर-शोर से तैयारियों में जुटी है. इस कड़ी में पीएम मोदी भी राज्य में जनसभाओं को संबोधित कर रहे हैं. वहीं पार्टी की तरफ से उम्मीदवारों की तीन लिस्ट भी जारी कर दी गई है. इनमें 79 उम्मीदवारों के नामों का ऐलान किया जा चुका है. लेकिन शिवराज सिंह चौहान के नाम को लेकर सस्पेंस बरकरार है. कांग्रेस दावा कर रही है कि बीजेपी शिवराज सिंह के नाम से कन्नी काट रही है. हालांकि इस पर फिलहाल बीजेपी की तरफ से कोई प्रतिक्रिया सामने नहीं आई है.

दरअसल, मध्य प्रदेश में सोमवार को आई 39 उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट में तीन केंद्रीय मंत्री समेत सात सांसद और राष्ट्रीय महासचिव को पार्टी ने विधायकी लड़ने के लिए नामित किया है. सोशल मीडिया पर लोग लिखने लगे हैं कि ये तो बारहवीं पास होने के बाद वापस दसवीं के इम्तिहान में बैठाने जैसा है. वहीं इस लिस्ट में भी शिवराज सिंह का नाम नहीं होना कई सवाल उठा रहा है.  उधर, ये भी चर्चा है कि जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने अपने 51 मिनट के भाषण में अपने नाम, अपने काम, अपनी योजना, और अपनी तरफ से योजनाओं को पूरा करने की गारंटी देते हुए शिवराज सिंह चौहान का नाम एक बार भी नहीं लिया.

वहीं पिछले चुनाव यानी 2018 में बीजेपी द्वारा उम्मीदवारों की पहली ही लिस्ट में शिवराज सिंह के नाम का ऐलान कर दिया गया था. तारीख थी 2 नवंबर 2018. बीजेपी ने 177 उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी की थी. पहली ही लिस्ट में शिवराज सिंह चौहान के बुधनी सीट से लड़ने का ऐलान हो गया था. लेकिन अबकी बार 2023 के चुनाव में तीन लिस्ट में 79 उम्मीदवारों का ऐलान हो चुका है. अब तक शिवराज सिंह चौहान किस सीट से लड़ेंगे साफ नहीं हुआ है.

दूसरी लिस्ट पर क्या बोले शिवराज? 

इन चीजों को लेकर सवाल उठ रहे हैं कि क्या शिवराज सिंह चौहान को लेकर कोई संशय चल रहा है? क्या शिवराज सिंह के साथ ही और भी दावेदारों को मैदान में उतार देना रणनीति है? दूसरी लिस्ट में जारी मंत्रियों के नामों पर पर यूं तो शिवराज सिंह कह रहे हैं कि ये अद्भुत है, अभूतपूर्व है, इसने बीजेपी की महाविजय को सुनिश्चित कर दिया है. सारे दिग्गज चुनाव लड़ेंगे परेशान तो कांग्रेस परेशान है कि हो क्या रहा है. बौखला कर बात कर रहे हैं. निरंतर विजय पर आगे बढ़ रही है.

अब यहां कुछ ध्यान देने वाली बात है. कारण, 17 अगस्त को 39 उम्मीदवारों की पहली सूची शाम 4 बजकर 9 मिनट पर सोशल मीडिया पर आती है. शिवराज सिंह 43 मिनट के भीतर उम्मीदवारों को शुभकामनाएं पोस्ट कर देते हैं. लेकिन जब मंत्रियों, सांसदों के नाम वाली दूसरी सूची 25 सितंबर को रात 9 बजकर 6 मिनट पर सोशल मीडिया पर आती है तो शिवराज सिंह की शुभकामनाएं करीब 12 घंटे बाद पोस्ट की जाती हैं.

कांग्रेस ने साधा निशाना

इस पर कांग्रेस भी निशाना साध रही है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि शिवराज के नाम और काम से शाह और मोदी कन्नी काट गए हैं. हिंदी फिल्म के मुहावरे में कहूं तो हम तो डूबेंगे तुमको सभी ले डूबेंगे, सारे प्रतिद्विंदियों को शिवराज और सिंधिया सबको फंसा दिया. ना बांस रहेगा ना बांसुरी.

सीएम फेस का ऐलान नहीं होना और सीएम पद के कई दावेदारों को टिकट देने के बाद सवाल फिर लौटकर आता है कि क्या शिवराज सिंह की सीट की घोषणा आगे होगी?

जीती हुई सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान बाकी

बता दें कि बीजेपी की तीन लिस्ट में 79 उम्मीदवारों का ऐलान हुआ. जिसमें पहली लिस्ट में 39 नाम थे. ये वो 39 सीट थीं, जिसमें एक भी सीट बीजेपी नहीं जीत पाई थी. उसके बाद दूसरी और तीसरी लिस्ट में कुल 40 नाम आए. जिसमें से 37 सीट ऐसी रहीं जो 2018 में बीजेपी हार गई थी. यानी अब तक बीजेपी का फोकस सिर्फ हारी हुई सीट को लेकर है. अभी जीती हुई सीटों के नाम का ऐलान होना बाकी है. यानी जब इन सीटों पर उमम्मीवारों के नामों का ऐलान होगा तब शिवराज सिंह चौहान समेत दूसरे बड़े मंत्रियों का नाम आ सकता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *