इंदौर में शव वाहनों का लोकार्पण कराने पर विजयवर्गीय बोले:22 साल बाद नगर निगम आया हूं तो भी उद्घाटन किसका कराया; लगे ठहाके

मध्यप्रदेश के कैबिनेट मंत्री कैलाश विजयवर्गीय मंगलवार को नगर निगम में आयोजित लोकार्पण और भूमिपूजन समारोह में पहुंचे। उनसे 35 करोड़ रुपए से ज्यादा के कामों का लोकार्पण और भूमिपूजन कराया। इनमें 6 शव वाहनों का उद्घाटन भी शामिल था। यह देखकर विजयवर्गीय चुटकी लेने से नहीं चूके। उन्होंने कहा कि महापौरजी, 22 साल बाद यहां आया हूं फिर भी मुझसे उद्घाटन किसका करवा रहे हैं। शव वाहन का। उनका यह कहनाभर था कि पूरा कैम्पस ठहाकों से गूंज उठा।

विजयवर्गीय ने 22 साल तक नगर निगम नहीं आने पर कहा कि जब काम इशारों से ही हो जाते हैं तो मेरे आने की क्या जरूरत है।

पुरानी यादें ताजा करते हुए कहा कि जब मैं महापौर था तब एक साल बारिश कम हुई। हमने शहर को परेशान नहीं होने दिया। बोरिंग-टैंकरों से पानी सप्लाय किया। तब मधु वर्मा (वर्तमान राऊ विधायक) घर से बाइक पर वॉकी-टॉकी लेकर निकल जाते थे। जहां पानी कम होता था, वहां पूर्ति कराते थे। ध्यान रहे कि विजयवर्गीय पार्षद और महापौर भी रह चुके हैं।

इस दौरान विजयवर्गीय ने निर्माण कार्यों के साथ दीनदयाल रसोई घर का लोकार्पण भी किया। यहां 5 रुपए गरीबों को भोजन मिलेगा।

पार्षदों को सलाह- शहर के चिंता करें, लालच से बचें

वे बोले- पार्षदों को लालच के ऑफर आते हैं। उन्हें इससे बचना चाहिए। हम आदर्श पार्षद कैसे बनें। पार्षदों और निगम कर्मचारियों को खुद को सौभाग्यशाली समझना चाहिए। आप 25 लाख लोगों के स्वास्थ्य के रक्षक हो। इस शहर का ऋण हम पर है। इसलिए हमें ईमानदारी से शहर का विकास करना चाहिए।

जिनका टिकट कटना बताया था, अब उनकी तारीफ में कसीदे

इस दौरान विजयवर्गीय सांसद शंकर लालवानी की तारीफ में कसीदे पढ़ते नजर आए। उन्होंने कहा इंदौर में जितने विकास कार्य किए हैं, वे सांसद शंकरजी ने मेरे खाते में डाल दिए। उस समय हमने जो विकास किया उसमें सांसद लालवानी का बहुत बड़ा योगदान है।

मैंने उन्हें सिविल इंजीनियर होने के कारण जनकार्य समिति का अध्यक्ष बनाया था। इन्होंने घूम-घूमकर सड़कें कैसे अच्छी होगी कैसे ट्रैफिक सुचारू रहेगा, इसकी प्लानिंग की। ध्यान रहे कि कुछ दिन पहले सांसदी के टिकट पर विजयवर्गीय ने कह दिया था कि उड़ते-उड़ते खबर सुनी है कि लालवानीजी का टिकट कट गया है।

हालांकि शाम होते-होते उन्होंने इसे मजाक बताकर डेमेज कंट्रोल किया था। दरअसल, मध्य प्रदेश की 29 में से 5 सीटों पर अभी भी उम्मीदवार घोषित नहीं हुआ है, इसमें इंदौर शामिल है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *