Petrol pump manager defrauded his own boss: पेट्रोल पंप मैनेजर ने अपने ही मालिक को लगाया चूना, 19 लाख रुपए की बेईमानी पर पुलिस में शिकायत

Petrol pump manager defrauded his own boss:  मध्य प्रदेश की राजधानी में एक पेट्रोल पंप के मैनेजर ने अमानत में खयानत करते हुए अपने मालिक के साथ ठगी की है। आरोपी मैनेजर पर करीब 19 लाख रुपए के गबन का आरोप है। पेट्रोल पंप के मालिक ने इस मामले में पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है।

ALL SO READ:-JABALPUR NEWS: पेट्रोल-डीजल के रेट में बदलाव, रायसेन-सतना समेत मध्यप्रदेश के कई जिलों में बढ़ गए Fuel के भाव, जानें अपने शहर का हाल

एयरपोर्ट रोड पेट्रोल पंप संचालित (Petrol pump manager defrauded his own boss)

मिली जानकारी के अनुसार भोपाल के करोंद क्षेत्र में रहने वाले लखन मीना का एयरपोर्ट रोड पर कुराना गांव में पेट्रोल पंप है। इस पंप पर उन्होंने मुगालिया गांव हाट के रहने वाले प्रकाश भाटी को मैनेजर पद पर नियुक्त किया था। मैनेजर भाटी के काम को देखते हुए वह उस पर अत्यधिक भरोसा करते थे, लेकिन अब मामले का खुलासा होने पर उन्होंने पुलिस कार्रवाई की है।

लखन मीणा पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष  (Petrol pump manager defrauded his own boss)

लखन मीणा पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष भी रह चुके हैं। पेट्रोल पंप के लेने देने को लेकर हाल ही में जब लखन मीना ने खुद से ही हिसाब-किताब मिलाया तो उन्हें गड़बड़ी का अंदेशा हुआ। मीना ने हिसाब किताब के लिए अपने पारिवारिक सदस्यों की मदद ली तो यह जानकारी समाने आई कि जितनी राशि का हिसाब कार्यालय की ड़ायरी में दिख रहा है, उतनी राशि बैंक में जमा ही नहीं की गई।

ALL SO READ:- Multibagger Stocks: हाईवे बनाने वाली कंपनी ने बनाया करोड़पति, अब फिर बंपर तेजी का रुझान

मैनेजर प्रकाश भाटी ने रुपए जमा नहीं किए  (Petrol pump manager defrauded his own boss)

लखन मीना ने मामले का खुलासा होने पर पुलिस में शिकायत करते हुए बताया है कि 7 अक्टूबर 2021 से 31 मई 2024 तक के हिसाब में करीब 19 लाख का गबन किया गया है। इस गबन को लेकर उन्होंने मैनेजर भाटी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। पुलिस जानकारी में यह बात सामने आई है कि मैनेजर प्रकाश भाटी ने बेईमानी करते हुए अलग-अलग तारीखों पर 5 से 50 हजार रुपये बैंक में जमा करते हुए बाकी के रुपए खुद के पास रखे। आरोपी भाटी की खोज में अब परवलिया थाना पुलिस जुट गई है।

 

42 lakhs cheated in the name of bank loan:  फर्जी फाइनेंस कंपनी के नाम पर लाखों की धोखाधड़ी करने वाले आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। शनिवार को न्यायालय ने उसे 7 जुलाई तक पुलिस रिमांड में भेजा है। आरोपी मोहम्मद फारूक गुजरात का रहने वाला है। उसने कई राज्य के लोगों को ऑनलाइन ठगी का शिकार बनाया है। पिछले 5 माह से पुलिस को चकमा दे रहा था।

फरवरी 2024 में शिकायत
रतलाम के स्टेशन रोड निवासी फरियादी गिरीश मेहता ने फरवरी 2024 में शिकायत दर्ज कराई थी। मोहम्मद फारूक नामक व्यक्ति ने खुद को रतलाम निवासी बताते हुए फाइनेंस कंपनी खोलने किराए का मकान लिया। इसी पते पर मोबाइल सिम ली और महाराष्ट्र बैंक में खाता खुलवाया। इसके बाद अखबार में गेट ग्लोबल नाम से फाइनेंस कंपनी का विज्ञापन देकर कर्मचारियों की भर्ती की। उनसे हाउस, बिजनेस, पर्सनल, मार्डगेज, एग्रीकल्चर लोन के लिए पम्‍पलेट छपवाए थे।

मकान मालिक से भी लिए 27 लाख
ऑफिस सेटअप जमाने के बाद आरोपी ने लोन वितरण का झांसा देकर लोगों से 15 लाख रुपए प्रोसेस शुल्क जमा करा ली। इसके बाद मकान मालिक गिरीश मेहता से भी 27 लाख रुपए ले लिए। कहा, 122 लोगों को लोन वितरित करना है। आरबीआई से अप्रूवल मिलते ही रुपए वापस कर देगा। गिरीश मेहता ने 14 लाख नकद और 13 लाख कंपनी के खाते में ट्रांसफर किए।

राजस्थान-गुजरात व बिहार-झारखंड में भी ऑफिस 
मोहम्मद फारूक ने पुलिस को बताया, बैंक लोन के लिए वह इंटरनेट व अखबारों में विज्ञापन देता था। रतलाम के अलावा उसने राजस्थान के जोधपुर, सीकर, ओड़िशा के भुवनेश्वर, गुजरात के सूरत-अहमदाबाद व बिहार-झारखंड में फर्जी कंपनियों खोल रखी थी। सीकर में वेबसाइट बनवाकर बैंक लोन के लिए ऑनलाइन फार्म भरवाए जा रहे थे। ठगी के 20 लाख रुपए उसने अजमेर में क्रिकेट सट्टे के बुकी को दिए थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *