JABALPUR NEWS: ब्रिटिश स्कूल के संचालक के आगे घुटना टेक हुई पुलिसः छात्र नेता के खिलाफ ऐसी कार्रवाई जैसे आतंकवादी हो

जबलपुर। आपके पैसा और एप्रोच है तो आप कुछ भी कर सकते हो, पुलिस जैसे विभाग को अपने जेब में रख सकते हो और शहर में ऐसा हो भी रहा हैैै। पूरा मामला ब्रिटिश स्कूल की अंधेरगर्दी से जुड़ा है जिसका विरोध करना छात्र नेता को महंगा पड़ गया। उसके साथ आतंकवादी जैसा सलूक किया जा रहा है, सुबह-सुबह दर्जन भर पुलिस कर्मी उसके घर में घुसते हैं और मां-बाप को पीटते हुए उसे गिरप्तार करते हैं।
ब्रिटिश स्कूल संचालक अनुराग सोनी के आगे पुलिस किस तरह से घुटना टेक है अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि पुलिस ने सिर्फ छा़त्र नेता अभिषेक पाण्डे पर एकतरफा कार्रवाई की जबकि सोशल मीडिया पर जो वीडियो वायरल हुआ उसमें संचालक अनुराग सोनी खुलेआम पिस्टल चकमा रहा हैं और छात्र नेताओं को गंदी-गंदी गालियां दे रहा है।

कलेक्टर की कार्रवाई को ब्रिटिश स्कूल संचालक दे रहे चुनौती
प्राइवेट स्कूलों में भर्राशाही और लूट का व्यापार खत्म हो इसके लिए कलेक्टर दीपक कुमार सक्सेना लगातार कार्रवाई कर रहे हैं। परंतु ब्रिटिश स्कूल संचालक और उनका पूरा स्टाफ कलेक्टर की कार्रवाई को चुनौती दे रहे हैं। दरअसल भेड़ाघाट स्थित ब्रिटिश स्कूल में भर्राशाही चरम पर थी जिसका विरोध करने छात्र नेता अभिषेक पाण्डे अपने साथियों के साथ पहंुचे थे परंतु वहां मौजूद स्टाफ ने उन्हें गेट के अंदर घुसने नहीं दिया। इसके बाद अभिषेक पाण्डे कुछ पुलिस कर्मियों के साथ स्कूल पहंुचे और संचालक से बातचीत करनी चाही परंतु संचालक भड़क गए और गाली-गलौज करने लगे।

पुलिस कर्मियों के सामने विवाद हुआ अब वह धतृराष्ट्र बन गए
ब्रिटिश स्कूल संचालक अनुराग सोनी द्वारा छा़त्र नेताओं के साथ किस तरह की अभद्रता की गई, गाली-गलौज कर धमकाया गया इसके गवाह मौके पर मौजूद दो पुलिस कर्मी है जो पूरी घटना को अपने आंखों से देख रहे थे फिर दोनों पुलिस कर्मियों ने अपने वरिष्ठ अधिकारियों को क्यों नहीं बताया कि जितनी गलती छात्र नेताओं की उससे ज्यादा गलती अनुराग सोनी की है दोनों पर एक सी कार्रवाई होनी थी। विवाद के समय मौजूद पुलिस कर्मियों ने जब देखा कि मामला हाईप्रोफाइल और ब्रिटिश स्कूल संचालक की एप्रोच सत्ता तक है तो दोनों धतृराष्ट्र की तरह आंखे बंद कर चुप हो गए।

 

नार्को टेस्ट की मांग
अभिषेक पांडे ने भेड़ाघाट थाने में एक आवेदन दिया है। जिसमें स्वयं व पुलिस कर्मियों का नार्को टेस्ट कराए जाने की मांग की है। उसका आरोप है कि पुलिस ने शिक्षाविद अनुराग सोनी के दबाव में उसके साथ मारपीट की है। यह जानकारी अदालत को दी गई। जिसके बाद मुलाहजा रिपोर्ट व अन्य साक्ष्यों के आधार पर आगामी सुनवाई तिथि को विवेचना अधिकारी को केस डायरी सहित तलब कर लिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *