इंदौर में टीचर की सत​र्कता से उजागर हुआ रेपकांड:दसवीं की छात्रा घर से तो निकली, लेकिन स्कूल पहुंची ही नहीं…

इंदौर में 14 दि​न पहले बाणगंगा इलाके की 16 वर्षीय स्कूल छात्रा से हुए दुष्कर्म के केस में अब चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। नानी को घटना वाले दिन ही वारदात की जानकारी लग गई थी लेकिन लोक-लाज के डर से परिवार ने पूरी घटना पुलिस से छुपाए रखी। जब आरोपी वारदात के बाद भी तंग करने लगा तो आखिरकार दो दिन पहले जाकर शिकायत करना ही पड़ी। आरोपी आकाश सिंह ठाकुर बाणगंगा इलाके का ही रहने वाला है। उसे गिरफ्तार करके जेल भेज दिया गया है।

दैनिक भास्कर ने घटना से जुड़े इन पहलुओं की पड़ताल की तो पता चला कि पूरे मामला का खुलासा उनकी स्कूल टीचर की अलर्टनेस के कारण सामने आया है।

दरअसल, छात्रा बाणगंगा इलाके में एक स्कूल में दसवीं में पढ़ती है। वह मां-बाप से दूर इंदौर में अपनी नानी के घर पर रहती है।

बात 16 जनवरी की है। छात्रा रोजाना की तरह स्कूल जाने का कहकर घर से गई थी। लेकिन, वह स्कूल पहुंची ही नहीं। स्कूल ने अपने ​रेगुलर सिस्टम के तहत नानी को कॉल करके पूछा कि आज छात्रा स्कूल नहीं आई है, क्या कारण है?

यह सुन नानी हैरान रह गई। उन्होंने कहा कि बच्ची तो हमारे घर से सुबह से ही निकल गई थी और स्कूल का कहकर ही गई है। परिवार परेशान होना शुरू हो गया। हालांकि पुलिस को तब सूचना नहीं दी। कुछ देर बाद स्कूल टाइम खत्म हुआ तो उसी के कुछ अंतराल से छात्रा घर लौट आई।

वह सहमी हुई थी लेकिन ​स्कूल नहीं गई थी, यह बात परिवार को नहीं बताते हुए रोजाना की तरह बैग रखकर सामान्य बर्ताव करने की कोशिश करने लगी। जब नानी और मामा ने पूछा कि कहां से आ रही है तो छात्रा डर गई। उसने पहले पूरी बात छुपाई और ​कहा कि स्कूल गई थी और कहां..।

इस पर ​परिवार ने कहा कि स्कूल से तो फोन आया था कि तुम स्कूल आज गई ही नहीं। यह सुनते ही वह घबरा गई और अपने साथ हुई आपबीती बयां कर दी।

वह सब कुछ जो उसने परिवार को बताया

‘अपने ही घर के कुछ दूर में आकाश नाम का लड़का रहता है। उसे दो साल से जानती हूं। मोबाइल पर पहले बात होती रहती थी। कुछ दिनों से बोलचाल पूरी तरह बंद थी। इसके बाद भी वह जबर्दस्ती बात करने की कोशिश करने लगा। वह ग्राउंड के पास आकर इशारे करता है और फिर से बात करने ​के लिए ​कोशिश करता है।

आज भी (16 जनवरी के दिन) जब मैं स्कूल जा रही थी तो वह रास्ते में खड़ा मिला। रास्ता रोक कर मुझसे कहा कि मेरे साथ घूमने चल..। मना किया तो कहने लगा कि तेरे मैसेज और कॉल रिकॉर्डिंग रखी हुई है। वायरल कर दूंगा तो कहीं मुंह दिखाने लायक नहीं रहेगी। बात कराकर वर्ना मर्डर भी करवा सकता हूं। इससे मैं डर गई। वह मुझे अपने साथ ऑटो रिक्शा में बिजासन मंदिर तरफ लेकर गया। वहां से पितृ पर्वत और इसके बाद अरविंदो के आगे एक बिल्डिंग के फ्लैट में लेकर पहुंचा।

फ्लैट में कोई नहीं था। आकाश ने हाथ पकड़ा और कहने लगा कि वह मुझे पसंद करता है। जबर्दस्ती करने लगा। फिर से धमकी दी कि तुझे पता है ना कि रोकने पर तू कहीं की नहीं रहेगी। ​इसके बाद उससे जबर्दस्ती की और कहा कि यह बात किसी को बता मत देना गलती से भी..। बदनामी तुम्हारी ही होगी। जान अलग जाएगी।

इसके बाद दोस्त आकाश ने उसे वापस ऑटो में बैठाया और भागीरथपुरा इलाके में ले आया। यहां छोड़कर चला गया, वहां से पैदल घर आई हूं।’

बदनामी के डर से परिवार थाने जाने से बचता रहा

वारदात सामने आने के बाद परिवार ने डिसाइड किया कि केस किया तो बदनामी हमारी ही होगी। इसलिए वे तब थाने नहीं गए। एक-दो दिन भी नहीं गुजरे कि आरोपी आकाश छात्रा को फिर से बात करने और रिलेशन बनाने के लिए धमकियां देने लगा। परिवार ने उसे चेतावनी दी लेकिन रिपोर्ट नहीं होने से उसके हौसले बढ़ते चले गए।

आखिरकार परिवार ने परिचितों से सलाह-मशविरा कर तय किया कि रिपोर्ट करनी ही चाहिए वर्ना यह सिलसिला नहीं रुकेगा। दो दिन पहले 30 जनवरी को परिवार ने बाणगंगा थाने में रिपोर्ट करा दी। अब आरोपी जेल की सलाखों में है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *