कमलनाथ छिंदवाड़ा से लड़ेंगे विधानसभा चुनाव:कांग्रेस स्क्रीनिंग कमेटी का फैसला- दिग्विजय, विवेक तन्खा को छोड़कर मैदान में उतरेंगे सभी दिग्गज

कांग्रेस की पहली सूची के लिए 80 नाम तय हाे गए हैं। इनमें से 65 माैजूदा विधायक हैं। वहीं, 15 नाम ऐसे हैं जो सीनियर हैं लेकिन पिछली बार चुनाव हार गए थे। ये नाम अब सीईसी में भेजे जाएंगे। सात और 8 अक्टूबर को सेंट्रल इलेक्शन कमेटी (सीईसी) से इसे मंजूरी मिल जाएगी। इससे पहले मंगलवार काे दिल्ली में स्क्रीनिंग कमेटी की बैठक हुई। इसमें एआईसीसी के ताजा सर्वे रिपोर्ट और एआईसीसी सचिवों के फीडबैक के आधार पर टिकट तय करने का फैसला हुआ है। अब तक जिलाध्यक्ष, प्रभारी, ब्लाॅक अध्यक्षों और प्रदेश चुनाव समिति के द्वारा दिए गए पैनल पर चर्चा हुई थी।

मीटिंग में कांग्रेस की ओर से प्रदेशभर में निकाली गई 7 जनआक्रोश यात्राओं में भागीदारी को टिकट का आधार बनाया गया है। इन यात्राओं की माॅनिटरिंग के लिए पार्टी के रणनीतिकार सुनील कानुगोलू की टीम ने सर्वे किया। साथ ही एआईसीसी के सचिव हर समय यात्राओं में रहे। इस दौरान सभी जगह देखा गया कि यात्रा में आम जनता को लाने में टिकट के पैनल में शामिल दावेदारों की कितनी सक्रियता रही।

लोगों से चर्चा के साथ दावेदारों की भी लोकप्रियता देखी गई। स्क्रीनिंग कमेटी की मीटिंग में नेताओं द्वारा सुझाए गए नामों पर कह दिया गया है कि यहां सिस्टम से काम चलेगा। जीतने वाले उम्मीदवार को टिकट दिया जाएगा।

रणनीति… भाजपा के बड़े चेहरों के सामने मजबूत प्रत्याशी उतारे जाएं

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ स्पष्ट कर चुके हैं कि ​मौजूदा विधायकों और सिंगल नाम वाली मिलाकर करीब सीटों दावेदारों को चुनाव की तैयारी करने के संकेत दिए जा चुके हैं। कांग्रेस के मप्र प्रभारी रणदीप सुरजेवाला 5 अक्टूबर के बाद सूची घोषित किए जाने की बात कह चुके हैं। इस तरह 130 सीटों के नाम ऐसे है जहां एआईसीसी के सर्वे और सचिवों की रिपोर्ट में नाम होना जरूरी होगा।

इससे पहले नारी सम्मान के आवेदन भरवाए जाने की संख्या को उम्मीदवारी में बारीकी से देखा गया था। भाजपा अब तक 79 सीटों पर नाम घोषित कर चुकी है, जिनमें 76 सीटें वे हैं जहां अभी कांग्रेस के विधायक हैं। भाजपा की दूसरी सूची में जिस तरह से बड़े नाम सामने आए हैं, उसे देखते हुए कांग्रेस की रणनीति है कि उन सीटों पर मजबूत चेहरे उतारे जाएं।

80 के करीब विधायकों को टिकट दे सकती है पार्टी

स्क्रीनिंग कमेटी की मीटिंग में सिटिंग एमएलए को टिकट दिए जाने के मामले में कुछ ऐसे विधायकों के नाम भी शामिल कर लिए गए हैं जिनकी परफाॅर्मेंस रिपोर्ट ठीक नहीं थी। पिछले सर्वे रिपोर्ट में 23 विधायकों की स्थिति ठीक नहीं बताई गई थी।

इस तरह सिर्फ 72-75 विधायकों को टिकट दिया जाना था, लेकिन अब यह संख्या 80 तक जा सकती है। स्क्रीनिंग कमेटी के द्वारा जिन विधायकों के नामों को हरी झंडी दे दी गई है, उसे सीईसी के पास मंजूरी के लिए भेजा जाएगा जहां से अनुमोदित होने के बाद कांग्रेस सिटिंग एमएलए के नामों की पहली सूची जारी करेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *