संसद हमले की 22वीं बरसी पर सुरक्षा फिर धराशायी: सोशल मीडिया के जरिए मिले थे ‘स्मोक अटैक’ के चारों आरोपी, फिर बनाया संसद में घुसने का प्लान

इन दिनों संसद में शीतकालीन सत्र चल रहा है. आज भी सदन की कार्यवाही चल रही थी. शून्य काल में पांच मिनट बचे थे. तभी पीछे से धड़ाम की आवाज आई. ये आवाज सामान्य नहीं थी. दरअसल एक युवक दर्शक दीर्घा से कूदकर नीचे आ गया था. इसी बीच दूसरा युवक भी जंप लगाकर नीचे आ गया. देखते ही देखते आरोपी एक डेस्क से दूसरी डेस्क पर छलांग लगाते हुए आगे बढ़ने लगे. दबोचे जाने से पहले उन्होंने अपने जूते से कुछ निकाला और स्प्रे कर दिया. थोड़ी ही देर में संसद में धुआं-धुआं हो गया.

इसी वक्त एक घटना संसद के बाहर भी घटी थी. पार्लियामेंट के बाहर एक युवक और एक महिला ने गैस का छिड़काव कर जमकर नारेबाजी की. इससे संसद परिसर के बाहर हड़कंप मच गया. बताया जा रहा है कि इस हमले में कुल 6 लोग शामिल हैं. इनमें से 4 आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है, जबकि 2 आरोपियों की तलाश जारी है.

ये हैं चारों आरोपियों के नाम

पुलिस ने चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. लोकसभा के अंदर दुस्साहस करने वाले युवकों के नाम सागर और मनोरंजन हैं. जबकि जिन आरोपियों को सदन के बाहर से गिरफ्तार कर लिया. उनके नाम नीलम और अमोल शिंदे हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक संसद के बाहर और अंदर हंगामा करने वाले चारों आरोपी एक-दूसरे को जानते हैं. इन आरोपियों का एक ही मकसद था. बताया जा रहा है कि ये चारों सोशल मीडिया के जरिए एक-दूसरे से मिले थे. फिर उन्होंने संसद पर हमले का प्लान बनाया था.

दर्शक दीर्घा से चैंबर में कूदे थे आरोपी

लोकसभा के अंदर स्मोक अटैक करने वाले सागर शर्मा मैसूर से बीजेपी सांसद प्रताप सिम्हा के अतिथि के रूप में दर्शक दीर्घा में आए थे. दोपहर करीब एक बजे दोनों सार्वजनिक गैलरी से चैंबर में कूद गए. भाजपा सदस्य राजेंद्र अग्रवाल जो कि आसन पर थे उन्होंने सदन की कार्यवाही को दोपहर 2 बजे तक के लिए स्थगित कर दी थी. संसद की सुरक्षा में सेंध के बाद सांसद प्रताप सिम्हा ने लोकसभा स्पीकर ओम बिरला और संसदीय कार्यमंत्री प्रह्लाद जोशी से मुलाक़ात कर सफ़ाई दी.वहीं, सांसदों ने आरोपियों को सुरक्षाबलो के हवाले करने से पहले उनकी जमकर पिटाई की.

स्पीकर ने दिए एंट्री पास कैंसिल करने के आदेश

बता दें कि इस घटना के बाद लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने पूर्व सांसदों और सांसदों के निजी सहायकों के संसद भवन में एंट्री पास कैंसिल करने के आदेश दे दिए हैं. ओम बिरला ने इस मामले पर सभी दलों के सांसदों की एक बैठक भी बुलाई है. जेडीयू सांसद रामप्रित मंडल ने कहा कि युवकों ने गैस के कनस्तरों को अपने जूते में छिपा लिया था और लोकसभा कक्ष में पीले रंग की गैस का छिड़काव किया था.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *