सोच समझकर प्रत्याशी करें चुनाव में खर्च:निर्वाचन आयोग ने जिलों में व्यय प्रेक्षक किए नियुक्त, सोशल मीडिया पर भी है नजर

निर्वाचन आयोग के निर्देश पर राज्य निर्वाचन आयोग प्रत्याशियों के हर खर्चे पर नजर बनाए हुए है। प्रत्याशी कितना पैसा खर्च कर रहें है और कितना कहा से ला रहे है, यह भी देख रही है। राज्य निर्वाचन आयोग प्रेक्षक की तीन स्तर पर निगरानी टीम बनाई है। राज्य निर्वाचन आयोग ने आम आदमी से अपील की है कि कोई भी प्रत्याशी अगर रुपए के जरिए चुनाव प्रभावित करने की कोशिश करता है तो उसकी जानकारी और सूचना दें।

राज्य निर्वाचन आयोग ने प्रदेश के प्रत्येक जिले की हर दो विधानसभा में एक व्यय प्रेक्षक की ड्यूटी लगाई है। ये प्रेक्षक आईआरएस रैंक के अधिकारी है। जबलपुर में चार अधिकारियों को नियुक्त किया गया है जो कि प्रत्याशियों के आय-व्यय पर नजर बनाए रखेंगे, इतना ही विधानसभा में जाकर आम जनता से जानकारी भी जुटाऐंगे। जबलपुर में निर्वाचन आयोग ने राजेश कोठारी, कुमार आदित्य,अभिषेक यादव और पीयूष भारद्वाज को तैनात किया है।

व्यय प्रेक्षक राजेश कोठारी ने बताया कि निर्वाचन में लगे अधिकारियों की लगातार मीटिंग ली जा रही है, उन्हें बताया गया है कि समन्यवय के साथ काम करें। जानकारी के अभाव में अगर कुछ गलत हो रहा है तो उसे भी देखे। उन्होंने बताया कि पारदर्शिता के साथ चुनाव करवाना यह हमारा का काम है। व्यय प्रेक्षक राजेश कोठारी ने कहा कि प्रत्येक प्रत्याशी चालीस लाख रुपए अधिकतम खर्च कर सकता है। इसके साथ ही प्रत्याशी को अपने पास आने और जाने वाले पैसे का रोज हिसाब देना है। इसके लिए प्रत्याशी को बाकायदा फार्म बनाए गए है।

आयकर विभाग भी विधानसभा चुनाव में अलर्ट मोड में आ गई है। आयकर विभाग ने आम आदमी को भी यह सुविधा दी है कि वह यदि कहीं गैर कानूनी तरीके से रुपए खर्च करते हुए प्रत्याशी को देखते है तो इसकी सूचना हेल्पलाइन नंबर पर दे सकते है, जिसकी जानकारी गुप्त रखी जाएगी। दूसरी तरफ शहर में चुनाव को लेकर जगह-जगह कई चेकिंग पॉइंट बनाए गए है। निर्वाचन आयोग ने जिले की सीमा पर पुलिस बल तैनात किए है जो कि आने-जाने वालों पर नजर रखेंगे। इसके अलावा सार्वजनिक स्थल पर लगातार निगाहे रख रही है।

इस बार विधानसभा का चुनाव का प्रचार सबसे ज्यादा सोशल मीडिया पर देखने को मिल रहा है। सोशल मीडिया में हो रहे प्रचार पर भी निर्वाचन आयोग नजरें बनाए हुए है। व्यय प्रेक्षक के मुताबिक सोशल मीडिया पर जो भी प्रत्याशी खर्च कर रहा है, उस पर भी नजर बनाए हुए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *