80 लाख खर्च कर युवक बना ‘दीपा’, प्रेमी ने किया शादी से इनकार, फिर ऐसे लिया इंतकाम

कानपुर के बड़ी दिलचस्प कहानी सामने आई है। इसमें समलिंगी प्यार, धोखा, इंतकाम, एफआईआर और जेल सब शामिल हैं। कार फूंकने में मध्यप्रदेश निवासी दो लोग पकड़े गए हैं, इनमें से एक युवक ने 80 लाख खर्च कर ब्रेस्ट ट्रांसप्लांट करा रखा है। नाम भी बदल कर दीपा (काल्पनिक नाम)कर लिया है। कानपुर निवासी प्रेमी ने ठुकराया तो गुस्से में दीपा ने दूसरे प्रेमी के साथ मिल कर उसकी कार फूंक दी थी। बस से इंदौर भागते वक्त पुलिस ने उन्हें दबोच लिया। पूछताछ के बाद मंगलवार को दोनों को जेल भेज दिया गया है।

रामपुरा श्यामनगर निवासी विभव शुक्ला के चाचा अनूप कुमार शुक्ला की अर्टिगा कार में रविवार रात स्कूटी से आए दो युवकों ने आग लगा दी थी। वीडियो वायरल होने पर पुलिस ने पीएफ कालोनी जंजीर बाग तुकोगंज इंदौर निवासी दीपा व उसके साथी विट्म मार्केट श्याम नगर भोपाल निवासी रोहन को गिरफ्तार कर लिया।

विभव को लुभाने के लिए लड़की बनना चाहता था : दीपा ने पुलिस को जानकारी दी कि सन 2021 में उसकी और विभव की दोस्ती इंस्टाग्राम पर हुई थी। दोनों की लगातार मुलाकात होती रहीं। दीपा ने विभव से शादी करने के लिए कहा तो उसने सामाजिक लोकलाज का डर दिखाते हुए मना कर दिया। फिर इस बात पर सहमति बनी कि अगर दीपा अपना जेंडर चेंज ऑपरेशन करा ले तो विभव उससे शादी कर लेगा।

तीन बार कराई सर्जरी
दीपा ने बताया कि विभव की बातों में आकर उसने दिल्ली में तीन बार में ब्रेस्ट सर्जरी करा ली। सर्जरी में 40 लाख रुपये लगे मगर अन्य खर्चे मिलाकर 80 लाख रकम लग गई। वह जेंडर चेंज के लिए भी सर्जरी कराना चाहता था मगर पैसे कम पड़ गए। इस सर्जरी के बाद विभव ने उससे मुंह मोड़ लिया और उससे बातचीत बंद कर दी। जिसके बाद वह उसे सबक सिखाना चाहता था। उसके एक अन्य प्रेमी रोहन यादव के साथ वह रविवार देर रात कानपुर पहुंचा। यहां शराब पी और विभव के घर के नीचे खड़ी गाड़ी जला डाली थी।

बाराजोड़ टोल प्लाजा के पास पकड़े गए
डीसीपी ईस्ट श्रवण कुमार सिंह ने बताया कि त्रिनेत्र योजना के तहत घटनास्थल के आसपास लगाए गए कैमरों में खोजबीन की गई। स्कूटी के नम्बर के जरिए रेपिडो नाम की फर्म के ऑफिस पहुंचे। वहां से दीपा की आईडी और मोबाइल नम्बर मिला। उसे सर्विलांस पर लिया तो बस में लोकेशन मिली। बाराजोड़ टोल प्लाजा के पास आरोपितों को गिरफ्तार किया।

पुरुष बैरक से अलग रखा गया दीपा को

दीपा के लिए जेल में अलग व्यवस्था करनी पड़ी। चकेरी पुलिस ने रोहन और दीप को मंगलवार को मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। जेल अधीक्षक डॉ. बीडी पाण्डेय के मुताबिक दीपा को बिल्कुल अलग बैरक में रखा गया है। आवागमन का रास्ता किसी के लिए नहीं है और जेल में तैनात सुरक्षा कर्मियों को भी इसकी जानकारी दे दी गई है। जेल अधीक्षक ने बताया कि मेडिकल परीक्षण के लिए डॉक्टर जा सकेंगे मगर उससे पहले उन्हें भी जेल अधिकारियों को सूचित करना होगा।

विभव का यहां कोई जुर्म नहीं
एडीसीपी ईस्ट लखन सिंह यादव ने बताया कि इस घटना में विभव का कोई जुर्म नहीं निकला है। उसके खिलाफ पहले ही इंदौर में एफआईआर दर्ज है। अगर वहां की पुलिस हमसे मदद मांगती है तो हम उनके आरोपित को पकड़कर उन्हें सूचित कर देंगे।

रोहन रहा है आपराधिक
डीसीपी ने बताया कि आरोपित रोहन के खिलाफ भोपाल में एक दर्जन से ज्यादा आपराधिक मामले दर्ज हैं। वह कुछ समय पहले ही दीपा के सम्पर्क में आया है और दोनों के बीच अच्छी दोस्ती हो गई थी।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *